fbpx
Breaking News
Home / historic monuments / worlds largest hindu temple | विश्व का सबसे बड़ा मन्दिर
angkorwat ,worlds largest hindu temple

worlds largest hindu temple | विश्व का सबसे बड़ा मन्दिर

worlds largest hindu temple  |विश्व का सबसे बड़ा मन्दिर

क्या आप जानते है विश्व का सबसे बड़ा मन्दिर(worlds largest hindu temple) भारत में नहीं है । जैसा की आप लोग जानते हमारे हिन्दू धर्म का इतिहास बहुत पुराना है। हिंदू धर्म में मन्दिर को पवित्र स्थान माना जाता है और इस समय विश्व में सबसे ज्यादा मन्दिर भारत में है लेकिन विश्व का सबसे बड़ा मदिर भारत में नहीं है । चलिए अब हम उस विशालकाय मन्दिर के बारे में जानते है |worlds largest hindu temple

इस मन्दिर का नाम अंगकोरवाट है यह विश्व का सबसे बड़ा मन्दिर है यह एक विष्णु मन्दिर हे जो की कंबोडिया के अंकोर में मौजूद है जिसका नाम पहले यशोधरपुर था । यह विश्व का सबसे बड़ा मन्दिर होने के साथ ही विश्व का सबसे बड़ा धार्मिक स्थल भी है।अंगकोरवाट मन्दिर मीकांग नदी के किनारे स्थित हे । यह मन्दिर 162.6 हेक्टेयर(1,626,000 वर्ग मीटर; 402 एकड़) में फैला हुआ है । इस मन्दिर का निर्माण (1113 -1145 ) ईसवी में हुआ था इसका निर्माण महाराजा सुरवर्मन द्वितय के द्वारा करवाया गया। इस मन्दिर के चारो और खाई है जो की 700 फुट चौड़ी है यह खाई दूर से झील के सामान दिखाई पड़ती है ।worlds largest hindu temple

angkorwat ,worlds largest hindu temple

अंगकोरवाट मन्दिर के बारे में पूर्ण जानकारी। angkorwat temple information

इस मदिर के चारो और झील है जो की 300 फुट चौड़ी हे और उसके ऊपर एक पुल बना हुआ है जो की मन्दिर के अंदर जाने का रास्ता है । इस पुल को पार करते ही मन्दिर का प्रवेश द्वार हे जो की 1,000 फुट चौड़ा हे । इस मन्दिर को बनाने में मिस्त्र के पिरामिड से ज्यादा पथर लगे हे और हर एक पथर का वजन करीब 1.5 टन हे । इसके मूल सिखर की ऊंचाई तक़रीबन 64 मीटर हे और बाकि के से जो सिखर हे उनकी ऊंचाई 58 मीटर हे । अंगकोरवाट मन्दिर साढ़े तीन किलोमीटर लम्बी दीवार से घिरा हुआ हे इसके आगे 30 मीटर खुली जमीन हे और फिर खाई । इसे बनाने में मिस्त्र के पिरामिड से भी ज्यादा पथर लगे हे ।worlds largest hindu temple
इस मन्दिर को मेहु पर्वत का चिन्ह माना जाता हे । इस मन्दिर का निर्माण 11 वि ईसवी में हिन्दू सम्राट सूर्यवर्मन ने करवाय था और उन्होंने यही सोच कर इसका निर्माण करवाया था की यह मन्दिर विश्व का सबसे बड़ा मन्दिर होना चाहिए इसके लिए उन्होंने अपने सारे सेवको को इसके निर्माण में लगा दिया था ।
यह मन्दिर भारत से लगभग 48000 किलोमीटर की दुरी पर हे और यह उस समय का बहुत ही बड़ा और पवित्र धार्मिक स्थल हुआ करता था इस मदिर को देखने दूर दूर से लोग आया करते थे ।

angkorwat ,worlds largest hindu temple
Angkor Wat temple

अंगकोरवाट मन्दिर की विशेषताएं  | Angkorwat temple features|worlds largest hindu temple

इस मन्दिर में प्राचीन काल के हिन्दू धर्म के अवशेस मिलते हे और मन्दिर की दीवारों पर देवी देवताओ की मुर्तिया अप्सराओ की कलाये
देव- दानवो के युद्ध स्वर्ग -नर्क, महाभारत, हरिवंश पुराण तथा रामायण के अनेक शिलाचित्र हे । और काफी कुछ यहां पर कहानी बताते हुए चित्र हे जो की अपने आप में बहूत ही अध्भुत हे । यहाँ  पर रामायण का उल्लेख दीवारों पर किया गया हे जिसमे मन्दिर की दीवारों पर पूरी रामायण के चित्र प्रदर्शित किये गए हे इसमें कुछ चित्र सीता माँ का स्वंयवर सीता माँ की अग्निपरीक्षा और राम जी की अयोध्या में वन से वापस आने के दृश्य हे , हनुमान के संवाद के हे कुछ राम और लक्ष्मण के हे इन चित्रों को बेहद शानदार तरीके से बनाया गया हे और
इस मन्दिर को बेहद खास तरीके से बनाया गया हे जरा सोचिये इतने बड़े बड़े पत्थरों को इतने ऊपर कैसे लाया गया होगा और इस पुरे मन्दिर के चारो और पानी भरा हुआ हे यह उस समय की सबसे बेहतरीन कलाओं में से एक था ।

यह मन्दिर ऐसा लगता हे जैसे कोई पानी में तैरता कोई द्वीप हो इस मन्दिर को एक तरह से पानी के ऊपर बनाया गया हे और यह इस तरह से बनाया गया हे की यह पानी के ऊपर तैरता हे और भूकंप आने पर यह उसे भी झेल सकता हे और यह अंगकोरवाट मन्दिर जहा बना हुआ हे उस छत्र में बाढ़ भी बहुत आती हे पर यह सब झेलने के हिसाब से बनाया गया हे ।

राजा सूर्यवर्मन | worlds largest hindu temple|worlds largest hindu temple

राजा सुवर्मान के चित्र भी इस मन्दिर की दीवारों के ऊपर बनाये गए हे । जिनमे यह बताया गया हे की राजा सूर्यवर्मन बहुत ही बलशाली और बुद्धिमान राजा थे । इन्होने अपने शाशन काल में शिक्षण सस्थान भी बनवाये थे जिमे शास्त्रों और वेदो के बारे में शिक्षा दी जाती थी।
राजा सूर्यवर्मन एक अच्छे योद्धा थे उन्हें तलवारबाजी के साथ में शास्त्रों का भी बहूत ज्ञान था और वो धनुष चलाने में भी माहिर थे ।
राजा सूर्यवर्मन ने इसका निर्माण तो करवाया पर वो अपने शासनकाल में इस मन्दिर का कार्य सम्पूर्ण होते नहीं देख पाए उनकी मृत्यु इस मन्दिर के कार्य पूर्ण होने से पहले ही हो गयी बाद में इस मन्दिर का पूरा निर्माण कार्य उनके भांजे और उत्तराधिकारी धरणीन्द्रवर्मन ने समपूर्ण करवाया ।worlds largest hindu temple

अंगकोरवाट मन्दिर की उप्लभ्धियां | Angkorwat temple achievements|worlds largest hindu temple

अंगकोरवाट मन्दिर को टाइम मैगज़ीन ने दुनिया की सबसे आश्चर्यजनक चीजों में शुमार किया हे और अंगकोरवाट मन्दिर यूनेस्को की वर्ल्ड हेरिटेज साइट में भी शामिल हे । गिनेस बुक ऑफ़ वोर्ल रिकॉर्ड में भी इसे रिलीजियस स्ट्रक्चर के तौर पर रखा गया हे ।
आज के समय में यहां बहूत लोग घूमने जाते हे और अंगकोरवाट मन्दिर के इतिहास के बारे में जानते हे ।इसको सनातन धर्म में बहूत ही पवित्र स्थल माना जाता हे और लोग यह पर सुबह का सूर्योदय और शाम का सूर्यास्त भी देखने आते हे जो की देखने में बहूत ही सुन्दर लगता हे ।

यह तो सिर्फ एक मन्दिर हे हमारे सनातन धर्म में ऐसे बहूत सारे मंदिरो का निर्माण हुआ जिनको कुछ गैर हिन्दू शाशको ने तुड़वा दिया और ऐसे कई धार्मिक स्थल थे जिन्हे नष्ट कर दिया गया पर । ऐसे ही काफी ऐतिहासिक तथ्य हे जिन्हे हम आपके साथ बाटना चाहते हे इसके लिए आप हमारे ब्लॉग को सब्सक्राइब करिये ।worlds largest hindu temple

अगर आपको हमारा यह आर्टिकल पसंद आया तो हमारे ब्लॉग को सब्सक्राइब करे और कमेंट करके बताये की यह ब्लॉग कैसा लगा और इसको ज्यादा से ज्यादा शेयर करे जिससे यह जानकारी आपके आस पास सभी को पता चले । और ऐसे ही आर्टिकल्स और भी हे हमारी वेबसाइट पर उन्हें भी पढ़े ।
धन्यवाद्

तन्हाजी मालुसरे के इतिहास के बारे में जाने पढ़े हमारा यह ब्लॉग –TANAJI MALUSARE HISTORY IN HINDI

About historicbio

One comment

  1. Great content! Super high-quality! Keep it up! 🙂

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *